आज ३० सितम्बर को जीवनऊर्जा के द्वारा १०००वें प्रश्न का समाधान दिया गया। वो भी तब जब जीवनऊर्जा पर नए पोस्ट नहीं डाले जा रहे हैं, मैं समझती हूं कि यह अपने आपमें जीवनऊर्जा के लिए बड़ी उपलब्धि है। जीवनऊर्जा यानि कि आप, मैं और वह हरेक व्यक्ति जो ऊर्जान्वित जीवन जीने की तमन्ना रखता है। आप सबको जीवनऊर्जा की तरफ से ढ़ेरो बधाई।

हम आपके प्रश्नों को पाकर एवम उनके समाधान की कोशिश कर अत्यंत प्रसन्न हो रहे हैं। आगे भी ये सिलसिला यूंही बना रहेगा। आप मुझे avgroup@gmail.com पर अपने सवाल यूंही भेजते रहें और जीवनऊर्जा से अपना स्नेह बनाएं रखें।

हमें यह बताते हुए भी हर्ष हो रहा है कि अब कुछ दिनो से हनी मनी नामक प्रत्रिका में भी जीवनऊर्जा के लेख नियमित रूप से हर महीने आने लगे हैं। उस पत्रिका के पाठको का स्नेह भी जीवनऊर्जा को वैसा ही मिल रहा है जैसा आपने दिया। ..... तहेदिल से शुक्रिया

July 31, 2008

क्या आप अम्ल रोग या एसिडिटी से परेशान हैं ?

कुछ भी खाओ''इनो " से हजम करो या फ़िर'' डाइजिन ''खाओ ...यह समस्या भी आज के आधुनिक युग की देन है अम्ल रोग या एसिडिटी ...इसके लिए वह तरह तरह के उपचार करते हैं पर कुछ समय के फर्क के बाद फ़िर वही समस्या शुरू हो जाती है |
इस रोग के होने के कारण हमारी आज कल की भाग दौड़ भरी जिंदगी ..उल्टा सीधा खाना खाना और समय पर न सोना न उठना , अधिक ठंडा या गरम भोजन खाना आदि हैं |

इस रोग के लक्षण है कि भूख अधिक लगती है पर कुछ खाते ही एक घंटे के बाद तकलीफ शुरू हो जाती है | छाती में जलन और कई बार पेट दर्द तक होने लगता है किसी किसी को उल्टी भी आ जाती है |लोग इस रोग के लिए सोडा इस्तेमाल करते हैं पर यह उस समय तो मुसीबत हल कर देता है पर बाद में अधिक अम्ल बनाता है |

इस के लिए प्राकतिक चिक्तिसा में बहुत से उपाय है जो आराम देते हैं |

इस रोग में भाप स्नान ,वह गीली चाद्दर में लपेट देने से लाभ मिलता है

रोगी को रोज़ सुबह शाम को गीले तोलिये से पोंछ देना चाहिए इस से शरीर में रक्त संचार बढ़ता है नींद भी अच्छी आती है|

खुली हवा में व्यायाम करना चाहिए इस से शरीर में आक्सीडेशन की किर्या बढती है|यदि व्यायाम न कर पाये तो टहल ले खुली हवा में और गहरी साँसे या प्राणयाम करे |

अधिक मात्रा में पानी पीयें .|

आहार पर विशेष ध्यान दे |ताजे फल , सलाद ,सब्जियों जा सूप , फ्हलों का रस उबली सब्जी ही खाए
खीर तरबूज सेव का रस मीठा संतरा .किशमिश आदि खाने चाहिए |

चाय काफ़ी एल्कोहल मांस आदि को न अपने भोजन में शामिल करे|
अधिक तकलीफ होने पर अपने प्राकतिक चिकित्सक से संपर्क करे और ""उर्जा रेकी ""के लिए डॉ गरिमा से सलाह ले

  1. सफेद काँच के बोटल मे, पानी भरकर धूप मे रखिये ३ घंटे, सुबह शाम इसका सेवन करें।
  2. अपने औरा मे गौण कलर के रूप मे पीले रंग से ऊर्जान्वित करवाईये।
  3. वज्रासन करने की आदत डाल लिजिये।
  4. ऊर्जा चिकित्सक से ऊर्जा चिकित्सा कराईये।
सेल्फ मेडिटेशन-
शवासन मे लेट जाईये, पावर ट्रिगर लगाईये, बाये हाथ से अपने पेट की तरफ ऊर्जा प्रवाह किजीये। कुछ दिनो मे ही आपको बार बार इनो पीने से निजात मिल जायेगा।

10 comments:

  1. बड़े गुणकारी और सार्थक उपाय बताये हैं आपने रंजू दी.आभार.
    एक नुस्खा जो मेरी सासू माँ ने बताया जब उसे अमल में लाया तो बड़ा ही फायदेमंद लगा,उसे आपलोगों से बांटना चाहूंगी.
    एक लीटर पानी को अच्छी तरह उबालकर और ठंडा हो जाने पर उसमे दो पुडिया कपूर(जो आरती या हवन के लिए पूजा में व्यवहृत होता है)को चूर्ण कर उस पानी में मिला कर पानी को एक कांच के बोतल में रख फ्रीज में रख लें और जब कभी गैस,अपच उल्टी या दस्त की समस्या हो तो उस कपूर मिश्रित पानी में से चौथाई कप पानी बाकि एक कप पानी में मिला कर पी लेने से पाँच सात मिनट के अन्दर आश्चर्य जनक रूप से आराम मिलता है.
    शायद इसलिए हिन्दुओं में पूजा में कपूर से सुबह शाम आरती की प्रथा है.दरअसल इसका धुआं पेट के किसी भी तकलीफ में बड़ा ही फायदेमंद है.

    ReplyDelete
  2. Chai kaise quit kee jaa sakti hai. koi upaay hai ji.

    Abhi mein bhi nayi hun blogging mein. Mera blog hai http://www.rekhaa.net, apnaa suggestion dein ki kaise main ise aur bhi improve kar sakti hun. Agar ho sake to feed bhi subscribe karen.

    Namaste..

    Taruna

    ReplyDelete
  3. वाह रंजना जी बहुत ही अच्छा उपाय बताया आपने ..आसान भी है और सासू माँ का अजमाया हुआ भी ..कफूर की महत्ता से सच में इनकार नही किया जा सकता है इसके अनेक लाभ है .. शुक्रिया

    ReplyDelete
  4. रंजू जी
    क्या बात है। आपतो सारे रोग ही भगा देंगीं। एक सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  5. काफी अलग हट कर लिखा आपने ! उपयोगी जानकारी के लिए शुक्रिया !

    ReplyDelete
  6. दोनों रंजना जी का बहुत बहुत शुक्रिया.... मुझे तो ऐसी कोई दिक्कत नही है लेकिन मेरे एक दोस्त को है... उसे यह पोस्ट मेल कर देता हू...पुनः आप लोगो का शुक्रिया

    ReplyDelete
  7. bahut hi achhi bat kahi aapne mujhe bahut faidye huye

    ReplyDelete

जरूर बताये, आज कि यह जानकारी कैसी लगी? अच्छी नही लगी हो तो भी बतायें, ताकि हम खुद को निखार सकें :)